Pages

Google+ Badge

Saturday, June 1, 2013

मधु सिंह द्वारा अज़ीज़ जौनपुरी

   

            मधु सिंह 

         ज़िन्दगी  से  हमको  कोई  शिकायत  नहीं रही 
         वफ़ा परस्ती की किसी से कोई चाहत नहीं रही
         मेरा  होना ही तूफ़ान  सा खलता  रहा  जिनको 
         उन दुश्मनों से भी कभी कोई अदावत नहीं रही
                                                  मधु "मुस्कान"